रायपुर : हमर छत्तीसगढ़ योजना : तालाबों के निर्माण और पुनर्जीवन से बढ़ा जलस्तर : पेयजल और निरस्तारी के लिए गर्मियों में भी रहता है भरपूर पानी

रायपुर. 27 नवम्बर 2017

जल संवर्धन के तरीकों से गर्मियों में भी गांव में जल की भरपूर उपलब्धता सुनिश्चित की जा सकती है, इसे सिद्ध कर दिखाया है डांडेसरा ग्राम पंचायत ने। मनरेगा के तहत नए तालाबों के निर्माण और पुराने तालाबों का जीर्णोद्धार, तथा उन्हें पुनर्जीवित कर गांव में जल संवर्धन का काम किया जा रहा है। इससे गांव का जलस्तर अच्छा हो गया है। अब भीषण गर्मी के दिनों में भी गांव में पेयजल और निस्तारी के लिए भरपूर पानी रहता है। मनरेगा के कार्यों के अंतर्गत वहां तालाबों का सौंदर्यीकरण भी किया गया है।
हमर छत्तीसगढ़ योजना में अपने पंचों के साथ अध्ययन भ्रमण पर रायपुर आईं दुर्ग जिले के डांडेसरा पंचायत की सरपंच श्रीमती मनबाई निषाद बताती हैं कि मनरेगा के तहत गांव में 100 दिनों का रोजगार देने के साथ ही तालाबों का निर्माण, जीर्णोद्धार एवं सौंदर्यीकरण कराया गया है। तालाबों-पोखरों का निर्माण जल प्रबंधन एवं संवर्धन के आजमाए गए तरीके हैं। इन तरीकों से जहां धरती का जलस्तर बढ़ता है वहीं निस्तारी और पेयजल के लिए साल भर पर्याप्त पानी भी मिलता है।
डांडेसरा की सरपंच श्रीमती मनबाई निषाद बताती हैं कि गांव को स्वच्छ और सुंदर बनाने के लिए सी.सी. रोड, नाली एवं घरेलू शौचालयों का निर्माण कराया जा रहा है। वे हमर छत्तीसगढ़ योजना के बारे में कहती हैं कि हम लोग नया रायपुर पहली बार आए हैं। इससे पहले कभी कोई बड़ा शहर नहीं देखा था। यहां आकर, रायपुर और नया रायपुर देखकर इतना अच्छा लगा कि शब्दों में बयां नहीं कर सकती। नया रायपुर की लम्बी-चौड़ी सड़कें, खूबसूरत इमारतें, साफ-स्वच्छ वातावरण और हरियाली बेहद आकर्षक है।    


क्रमांक-3694 /कमलेश


Secondary Links