राजनांदगांव : बोरतलाव के ग्रामीणों ने कहा, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र खुलवा दें : जनसमस्या निवारण शिविर का हुआ आयोजन : शिविर में आए 637 आवेदन

राजनांदगांव 07 दिसम्बर 2017

बोरतलाव विकासखंड डोंगरगढ़ में आज आयोजित हुए जनसमस्या निवारण शिविर में ग्रामीणों ने प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र की माँग रखी। ग्रामीणों को जानकारी दी गई कि इस संबंध में शासन को प्रस्ताव पूर्व में ही प्रेषित किया जा चुका है। स्वीकृति मिलते ही बोरतलाव में प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र आरंभ करने की कार्रवाई आरंभ कर दी जाएगी। इस मौके पर प्रभारी कलेक्टर श्री चंदन कुमार ने ग्रामीणों को आश्वस्त किया कि ग्रामीणों द्वारा दिए गए सभी आवेदनों पर शीघ्रताशीघ्र कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने स्थानीय अमले से ग्रामीण विकास के लिए चल रही योजनाओं की जमीनी स्थिति की जानकारी भी ली। इस मौके पर जिला पंचायत के पूर्व अध्यक्ष श्री भरत वर्मा ने अपने संबोधन में कहा कि इस बार सूखे की स्थिति को देखते हुए ग्रामीण गेंहूँ और दलहन के फसल लें, उन्होंने कहा कि फसल चक्रीकरण हमेशा उपयोगी होता है। उन्होंने प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना का लाभ लेने की अपील भी ग्रामीणों से की। उन्होंने कहा कि पिछले खरीफ सीजन में बड़ी संख्या में किसानों ने फसल बीमा कराया, इसका लाभ उन्हें मिलेगा।
        इस मौके पर अपने संबोधन में जनपद पंचायत अध्यक्ष श्रीमती किरण साहू ने कहा कि जनसमस्या निवारण शिविर के माध्यम से जिलास्तरीय अधिकारी एक साथ एक ही जगह पर उपलब्ध हो जाते हैं। इससे बिना ब्लाक एवं जिला मुख्यालय का दौरा किये मौके पर ही समस्या का समाधान हो जाता है। ग्रामीणजनों को इसका लाभ उठाना चाहिए। इस मौके पर श्री कुमार ने ग्रामीण जनों से रबी में बीमा कराने का आग्रह किया। उन्होंने कहा कि मात्र 1.5 प्रतिशत प्रीमियम राशि चुकाकर फसल बीमा का लाभ लिया जा सकता है। इसके लिए 31 दिसंबर तक रजिस्ट्रेशन किया जा रहा है। उन्होंने कुपोषण दूर करने के लिए बोरतलाव सरपंच द्वारा आंगनबाड़ी के कुपोषित बच्चों को दूध उपलब्ध कराये जाने की प्रशंसा भी की। उन्होंने कहा कि कुपोषण दूर करने उचित आहार बहुत जरूरी है। उन्होंने आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं से इस संबंध में किए जा रहे प्रयासों के बारे में पूछा। कार्यकर्ताओं ने बताया कि वे हर दिन कुपोषित बच्चों के अभिभावकों से मिलती हैं। उन्हें कुपोषण से होने वाले नुकसान के संबंध में जानकारी देती हैं और सुपोषित आहार के बारे में बताती हैं। शिविर में 637 आवेदन आए। इस अवसर पर  जिला पंचायत सदस्य श्रीमती विभा साहू, श्रीमती रामदुलारी क्षत्री, जनपद सदस्य श्री जयलाल सिन्हा, एसडीएम श्रीमती प्रेमलता चंदेल, सीईओ श्री वीरेंद्र सिंह एवं अन्य अधिकारी उपस्थित थे।
प्रधानमंत्री मातृ बंधन योजना में आंगनबाड़ी कार्यकर्ता के
पैसे मांगने की शिकायत -
    केंद्र सरकार द्वारा जनवरी 2017 से प्रधानमंत्री मातृ बंधन योजना शुरू की गई है। इसमें गर्भ की पुष्टि होने पर, पहले चेकअप पर और डिलीवरी के पश्चात तीनों चरणों में कुल मिलाकर गर्भवती माता के खाते में 5000 रुपए जमा किए जाते हैं। इस योजना में आंगनबाड़ी कार्यकर्ता द्वारा पैसे माँगने की शिकायत एक हितग्राही ने की। जिला कार्यक्रम अधिकारी ने कहा कि एक सप्ताह के भीतर इसकी जाँच कर ली जाएगी और जांच रिपोर्ट के अनुसार कार्रवाई सुनिश्चित की जाएगी।
क्रमांक 1959सौरभ


Secondary Links