रायपुर : मुख्यमंत्री ने किया पांच दिवसीय स्वास्थ्य शिविर का शुभारंभ : आई केयर एम्बुलेन्स का किया लोकार्पण

रायपुर, 12 जनवरी 2018

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने आज यहां शासकीय आवुर्वेद महाविद्यालय परिसर में आयोजित पांच दिवसीय विशाल स्वास्थ्य शिविर का शुभारंभ किया। शिविर का आयोजन लोक निर्माण मंत्री श्री राजेश मूणत के संयोजन में चिकित्सा प्रकोष्ठ एवं स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग द्वारा स्थानीय समाजसेवी संस्थाओं के सहयोग से किया गया है। डॉ. सिंह ने करीब 38 लाख रुपए की लागत से निर्मित आई केयर एम्बुलैंस का लोकार्पण भी किया। समाजसेवी संस्था -महावीर इन्टरकान्टिनेंटल सर्विस आर्गेनाईजेशन संस्था द्वारा इसका संचालन किया जाएगा। मंत्री श्री राजेश मूणत की विधायक निधि और जिला खनिज फण्ड के उपयोग से एम्बुलैंस को चलते फिरते आंख के अस्पताल का स्वरूप प्रदान किया गया है।
शुभारंभ अवसर पर छत्तीसगढ़ विधानसभा अध्यक्ष श्री गौरीशंकर अगव्राल, लोकसभा सांसद श्री रमेश बैस, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री श्री अजय चंद्राकर, कृषि मंत्री श्री बृजमोहन अग्रवाल, विधायक एवं छत्तीसगढ़ पाठ्यपुस्तक निगम के अध्यक्ष एवं विधायक श्री देवजी भाई पटेल, विधायक श्री श्रीचंद सुंदरानी, मनोनीत विधायक श्री रोड्रिग्स,राज्य औषधीय पादप बोर्ड के अध्यक्ष श्री रामप्रताप सिंह, पद्मश्री डॉक्टर ए.टी.दाबके विशेष अतिथि के रूप में उपस्थित थे। शिविर के मुख्य आयोजक एवं लोक निर्माण मंत्री श्री राजेश मूणत ने स्वागत भाषण दिया। उन्होंने बताया कि पांच दिवसीय यह शिविर 16 जनवरी तक चलेगी। सवेरे 9 बजे से प्रतिदिन शिविर शुरू हो जाएगी। सुपर स्पेश्यालिटी, मल्टी स्पेश्यालिटी, जनरल के साथ-साथ आयुष पद्धति से भी जांच और इलाज की सुविधा यहां उपलब्ध कराई गई है। मरीजों की निःशुल्क सेवा के संकल्प के साथ करीब 400 डॉक्टरों की टीम शिविर में सेवाएं दे रहे हैं। मुम्बई, अहमदाबाद जैसे बड़े शहरों से भी करीब 61 डॉक्टर यहां पहुंचे हैं। शिविर में सोनोग्राफी, ईको, ईसीजी,एक्सरे, ब्लड सुगर, ब्लड गु्रप जांच की निःशुल्क सुविधा है। जरूरत के अनुसार उन्हें सिटी स्कैन, एमआरआई और पेट सिटी स्केन की सुविधा भी मुहैया कराई जाएगी। मरीजों को संजीवनी सहायता कोश के माध्यम से भी इलाज के लिए संपूर्ण मदद की जाएगी। शिविर के पहले ही दिन करीब 14 हजार पंजीयन हो चुके हैं।
मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने स्वामी विवेकानंद की जयंती के मौके पर निःशुल्क शिविर लगाने के लिए आयोजन समिति को बधाई और शुभकामनाएं दी। उन्होंने कहा कि शिविर का स्वरूप बढ़कर राष्ट्रीय स्तर का हो गया है। शिविर में आने वाले मरीजों के दुख-दर्द को गंभीरता और संवेदनशीलता के साथ सुना जाना चाहिए ताकि वे शिविर से पूर्णतः संतुष्ट और इत्मीनान के साथ वापस जाएं। उन्होंने कहा कि शिविर आयोजन का आदर्श स्वरूप यहां दिखाई दे रहा है। किसी भी तरह के शिविर आयोजन करने वालों को यहां आकर इसका प्रशिक्षण लेना चाहिए। गरीबों और मरीजों की सेवा का यह बड़ा और बेमिसाल काम है। प्रत्येक समर्थ व्यक्ति को इसमें सहभागी बनना चाहिए। स्वास्थ्य मंत्री श्री अजय चंद्राकर ने कहा कि मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के नेतृत्व में पिछले 15 साल में राज्य सरकार के स्वास्थ्य विभाग का बजट 300 करोड़ प्रति वर्ष से बढ़कर आज 4400 करोड़ रुपए हो गया है।उन्होंने कहा कि राज्य में एक सरकारी मेडिकल कॉलेज से बढ़कर 6 मेडिकल कॉलेज और सीटों की संख्या 150 से बढ़कर 1100 हो चुकी है। उन्होंने बताया कि आगामी 24 मार्च को डीकेएस सुपर स्पेश्यालिटी अस्पताल भी शुरू हो जाएगा। स्वास्थ्य के प्रति राज्य सरकार की प्राथमिकता को प्रगति दर्शाता है।
रायपुर के लोकसभा सांसद श्री रमेश बैस ने अपने सम्बोधन में कहा कि खासकर गरीब मरीजों को इस शिविर का विशेष फायदा होगा। अपने बड़ी बीमारी के संबंध में परामर्श लेने जो मुम्बई, दिल्ली नहीं जा पाते, वे इस शिविर में बड़े डॉक्टरों से सलाह ले सकते हैं। उन्होंने उम्मीद जताई कि दिव्यांगजनों को भी इस शिविर से बड़ी राहत मिलेगी। पद्मश्री डॉ. एटी दाबके ने कहा कि सर्वे सन्तु निरामया का सपना इस शिविर से साकार होगा। शिविर में मरीजों को स्वास्थ्य जागरूकता के बारे में बताया जाएगा। शुभारंभ के बाद मुख्यमंत्री ने शिविर की व्यवस्था का अवलोकन भी किया। उन्होंने जयपुर पैर के लिए पहुंचे कुछ मरीजों के साथ यहां आए अनेक मरीजों से बातचीत भी की।

क्रमांक-4448 /पटेल


Secondary Links