मुख्य सामग्री पर जाएं
स्क्रीन रीडर एक्सेस
शनिवार, 03 जून 2023
मुख्य समाचार:

रायगढ़: गांव-गांव तक सरकार के महत्वकांक्षी योजनाओं को पहुंचा रहे हैं सांस्कृतिक दल के कलाकार

सांस्कृतिक दल के कलाकर

गीत, नाटक, प्रहसन और लोक संगीत के माध्यम से लोगों को दे रहे जानकारी
ग्रामीण भी योजनाओं के साथ अपनी बोली-भाषा और संस्कृति से हो रहे रुबरु

रायगढ़, 7 फरवरी 2023

सरकार की महत्वकांक्षी योजनाओं को सांस्कृतिक दल के कलाकर गांव-गांव तक पहुंचा रहे हैं। उनके द्वारा ग्रामीणों की ही बोली में गीत, नाटक, प्रहसन और लोक संगीत के माध्यम से जानकारी दी जा रही है। इस दौरान ग्रामीण भी हर एक योजनाओं के साथ अपनी बोली-भाषा और संस्कृति से भी रुबरु हो रहे हैं। कलाकारों द्वारा मनोरंजन के साथ विभिन्न योजनाओं के बारे में बताई जा रही है। इस कला दल में महिला कलाकारों की भूमिका भी अहम है जो अपनी नृत्य नाटिका से लोगों को भाव-विभोर कर रही हैं। खास बात यह है कि पुराने समय में जो छत्तीसगढ़ी गीत लोग गुनगुनाते थे वह गांव के मंच पर इन कलाकारों से सुन रहे हैं। ये कलाकार पारंपरिक वाद्य यंत्रों का उपयोग कर रहे हैं।
छत्तीसगढ़ शासन की कई लोक हितकारी योजनाएं संचालित हो रही है। इन्हीं योजनाओं को गांव-गांव के हर घर तक पहुंचाने के लिए लोक कलाकारों को जिम्मेदारी दी गई है। इसमें ऐसे कलाकारों का चयन किया गया है जो संबंधित एरिया के बोली-भाषा के जानकार हैं। बस्तर, सरगुजा, जशपुर जैसे आदिवासी इलाकों में हल्बी, गोंडी, सरगुजिहा, सादरी, कुडूख जैसी बोलियों में योजनाओं की जानकारी दे रहे हैं। ये कलाकार अपने-अपने तरीके से ड्रामा, जादूगरी, प्रहसन और अन्य कलाओं के माध्यम से प्रचार-प्रसार कर रहे हैं। रायगढ़ जिले के सात ब्लॉकों के गांवों में लोक झंकार कला केंद्र के कलाकार मनोरंजन के साथ योजनाओं को हर गांव तक पहुंचा रहे हैं। इस टीम के कलाकारों को पहले प्रशिक्षित किया गया है और ऐसी बोली भाषा का उपयोग करने की सलाह दी गई है जो आम बोलचाल में हो। जिले के कुछ इलाकों में उडिय़ा का भी प्रभाव है, ऐसे क्षेत्रों में लोगों को उडिय़ा में जानकारी दी जा रही है।
ग्रामीणों के सवाल भी
कई गांवों में ग्रामीणों द्वारा कई योजनाओं को लेकर सवाल भी पूछा जा रहा है। जैसे लाभ कैसे मिलेगा, कहां संपर्क करें। ऐसे सवालों का जवाब भी सांस्कृतिक लोककला दल के कलाकार दे रहे हैं। ग्रामीणों को बताया जा रहा है कि योजनाओं का लाभ लेना उनका अधिकार है। कई गांवों में पात्र-अपात्र जैसे सवाल भी किया जा रहा है। इसका भी जवाब प्रशिक्षित कलाकारों द्वारा दिया जा रहा है।
स.क्र./33/राहुल फोटो..12 से 15 तक

जिले में फाइलेरिया मुक्त अभियान चलाये जाने के संबंध में बैठक आयोजित
रायगढ़, 7 फरवरी 2023/ सीएमएचओ डॉ.मधुलिका सिंह ठाकुर के मार्गदर्शन में जिले के आईएमए के सदस्य एवं विकासखंड व निजी चिकित्सालय के प्रभारी चिकित्सा अधिकारियों के साथ बैठक का आयोजन किया गया। जिसमें फाइलेरिया से बचाव संबंधी निर्देशों के बारे में बताया गया। आगामी 10 फरवरी से जिले मे फाइलेरिया अभियान प्रारंभ किया जा रहा है। जिसमें फाइलेरिया व उसके रोकथाम नियंत्रण के बारे में जानकारी दी गई। फाइलेरिया मच्छर के काटने से होने वाला एक संक्रमित रोग है। इस रोग से व्यक्ति किसी भी उम्र में संक्रमित हो सकता है। फाइलेरिया के लक्षण हाथ व पैर की सूजन, हाइड्रोसिल के अलावा महिलाओं के स्तन में भी सूजन की समस्या पाई जाती है।
फाइलेरिया दवा के फायदे- यह फाइलेरिया के परजीवीयों को मार देती है और आपको हाथीपाव व हाइड्रोसिल जैसे बीमारियों से बचाव करती हैं। जिले में फाइलेरिया  कार्यक्रम  उन्मूलन के तहत 13.35 लाख व्यक्तियों को दवा सेवन कराया जायेगा। जिसमें 2269 सर्वे दल 4538 सदस्यों द्वारा 454 सुपरवायजर,  45 सेक्टर सुपरवायजर द्वारा दवा खिलायी जायेगी। बैठक में जिला मलेरिया अधिकारी डॉ.टी.जी कुलवेदी, जिला नर्सिंग होम एक्ट के नोडल अधिकारी डॉ.बी.पी.पटेल, जिला मीडिया अधिकारी श्रीमती उमा महंत व अन्य अधिकारी/कर्मचारी उपस्थित हुए।
स.क्र./33/राहुल